Saturday, July 28, 2007

आस्ट्रेलिया के ब्लॅागर साथियों के नाम एक पैग़ाम

हनीफ को लेकर आस्ट्रेलिया में बहुत कुछ हुआ। आतंकी होने का आरोप लगा। मुकद्दमा चला। जेल हुई। फिर आरोप वापस लिए गए। टीवी, अखबार समेत कई माध्यमों से देश दुनिया तक ये जानकारी फैली। पर मैं जानना चाहता हूं आस्ट्रेलिया में बैठे अपने ब्लागर साथियों से उनकी जुबानी। भारतीय मूल के लोगों में क्या प्रतिक्रिया है वहां। किस तरह से आस्ट्रेलियाई लोगों ने भी आवाज़ बुलंद की हनीफ को बचाने के लिए। आमतौर पर आस्ट्रेलियाई क्या सोच रहे हैं इस हनीफ मामले के बाद...। और ऐसी बहुत सारी बातें।

मैंने कहा कि इस सूचनाओं के हम तक पहुंचने के कई और रास्ते हैं। पर जब हम ब्लॅाग देखने बैठते हैं तो यहां भी इस तरह की सूचनाएं, जानकारी, अनुभव, नज़रिया देखना चाहते हैं। इस मामले में आस्ट्रेलिया में बैठे ब्लागर साथी हमारी मदद कर सकते हैं। अपने ब्लाग पर लिख सकते हैं। हमें पढ़ कर अच्छा लगेगा। अगर कोई मेरे ब्लाग पर ये संदेश देख पा रहे हैं तो।

औऱ सिर्फ आस्ट्रेलिया या हनीफ मामले में ही नहीं... दुनिया में जहां जहां भी हिन्दी ब्लागर साथी हैं... अपने आसपास की सामयिक घटनाओं से संबंधित सूचनाएं हमारे साथ बांटे तो शायद हम खुद को दुनिया के और पास महसूस कर सकें।

शुक्रिया

2 comments:

अनूप शुक्ला said...

सही है। लेकिन यह पता करना होगा कि वहां हिंदी ब्लागर कौन है!

परमजीत बाली said...

बहुत बढिया आवाहन किया है।बधाई।