Friday, July 20, 2007

जलप्रपात

अपने उदगम से निकल कर
दूरी तय करती

प्रपात बिन्दू तक पहुंच कर
उंचाईयों से गिरती

चट्टानों से टकरा कर

अपने तल को ढ़ूंढती
जलधारा।

मैंने देखा नहीं है
पर सोचता हूं

ऐसा ही होता होगा
जलप्रपात।

5 comments:

ratna said...

क्या बात है।

Rachna Singh said...

dekho agar nahin dekha hae
taab hii janogae
kya hota hae "jalprpaat"
uska shor bahut kuch kehta hae
jab dekna to usae bhi sunanae kii
koshish karna
aur phir likhna
"kya kehta hae jalprpaat"

कुमार आशीष said...

चट्टानों से टकरा कर
अपने तल को ढ़ूंढती
जलधारा।
यह तोष है या तलाश..

Pushpa Tripathi said...

Uma shankar ji,

jal prapat ki aapki kalpana bilkul sahi hai.Physical Geography mein jitna padha hai aur jo dekha hai,uske aadhar par kah rahi hoon.
asha karti hoon ki aap jaldi hi kisi jal prapat ke darshan karen.

Divine India said...

क्या बात है… मन के प्रपात से जलप्रपात की ओर…वाहSSSS