Sunday, December 30, 2007

फिर से पाकिस्तान में

किस्मत दुबारा पाकिस्तान खींच लाई है. बेनजीर की हत्या के बाद के हालात को अपनी आंख से देख पा रहा हूँ. हालात ठीक नही लगते. किसी तरह ये छोटी सी सूचना आप तक पहुँचा पा रहा हूँ. तफसील से बात होगी, फिलहाल इतना ही.

मेरी तो यहीं बीतेगी पर आप सबों को नए साल की बधाई...

9 comments:

aaina2 said...

अपना ख्याल रखेँ।

दिनेशराय द्विवेदी said...

पाकिस्तान में इतिहास नई करवट ले रहा है। आप उस के चक्षुदर्शी बन रहे हैं, आप के जीवन का यह एक महत्वपूर्ण काल है। सावधानी से अवलोकन करें और हिन्दी दस्तावेज साहित्य को एक अदभुत कृति भेंट करें। हिन्दी ब्लॉगिंग को भी एक नया आयाम प्राप्त होगा।

Sanjeet Tripathi said...

चलिए अब वहां के हालात को आपकी आंखो से देखेंगे!!

यकीनन बतौर एक पत्रकार आप किस्मत वाले हैं जो एक ऐसे समय में किसी पड़ोसी देश में हैं, जब वहां शायद इतिहास लिखने की तैयारी हो रही है!!

शुभकामनाएं बंधु!

brijesh sharma said...

bhai uma aap akele nahin hai. aap jaise hum aur bhi pakistan me hain. apna mobile no. mujhe mail kare. man aap ko phone karunga. brijesh_ks@sify.com.

Poonam said...

आप प्रत्यक्षदर्शी हैं पाकिस्तान के एक तारीखी दौर का.आशा है आप वहाँ के हालात का बारीकी,संवेदनशीलता और गहराई से विशलेषण करेंगे.आपके लिये भी यह एक अदभुत तकाज़ा होगा.नए साले के लिये,आपकी सुरक्षा के लिये और आपकी रिर्पोटिंग के लिये शुभकामनएं .

Madhukar said...

ईश्वर ने आपको एक अनूठा अवसर दिया हॆ कि आप अपने वहां के अनुभवों के आधार पर एक नयी रचना कर सकें जिसका शीर्षक होगा "जिन पाकिस्तान नहीं वेख्या"..... अपना विशेष ख्याल रखियेगा क्यों कि वह एक ऎसा मुल्क हॆ जहां कोई भी सुरक्षित नही........

Indra said...

NDTV ki barkha dutt ke alawa kisi aur indian channel ka reporter larkana main nahin dikha. Jyadatar log aap ki tarah lahore se hi reporting karte dikhe. khair apna khayaal rakhen. Nav varsh mangalmai ho!!

अजय रोहिला said...

मुबारक हो फिर से एतिहासिक मौका मिला है।...अपडेटस का इंतजार रहेगा।

VIDYUT MAURYA said...

तुम्हारा ब्लाग देखता हूं....नए साल की बधाई...मैं अब दिल्ली आ गया हूं....लाइव इंडिया में....
ईमेल vidyutp@gmail.com
M-9990284150