Wednesday, December 26, 2007

बोल कि क्यूं लब आज़ाद नहीं हैं मेरे

पाकिस्तान में ब्लॅाग्स को पहले भी ब्लॅाक किया जाता रहा है। इसकी कुछ बानगी यहां क्लिक कर देखी जा सकती है। मेरे ब्लॅाग को रोकना इसी एक कड़ी लगती है। वजह चाहे जो भी रहीं हो... अभिव्यक्ति की आज़ादी तो यहां सवालों के घेरे में हमेशा से रही है। पैमरा और पीपीओ कानून के ज़रिए मीडिया को बांध दिया गया है। जिओ न्यूज़ पर अब तक पाबंदी है। जिओ और एआरवाई समेत कई चैनलों के कई एंकरों को शो नहीं करने दिया जा रहा। लाईव शो नहीं हो सकते। सरकारी फैसलों को लेकर असंवैधानिक जैसे शब्द नहीं लिखे जा सकते।
जिओ के पत्रकार जूझ रहे हैं। वो आंदोलन चला रहे हैं कि 'बोल कि लब आज़ाद हैं मेरे...' लेकिन असल आज़ादी अभी दूर नज़र आती है।

http://greensatya.blogspot.com/2006/03/blogger-blocked-in-pakistan.html

http://www.globalvoicesonline.org/2006/03/02/pakistan-blogspot-blogs-blocked-in-pakistan/

http://spiderisat.blogspot.com/2006/03/blogspot-and-other-sites-blocked.html

http://www.zackvision.com/weblog/2006/03/blogspot-pakistan.html

http://ovaiskhan.blogspot.com/2006/03/blogspot-blocked-in-pakistan-some.html

http://valleyoftruth.blogspot.com/2007/12/my-blog-is-blocked-in-pakistan.html

1 comment:

महर्षि said...

चिंतनीय है यह खबर