Monday, March 31, 2008

एक ब्लॉगर की आखिरी पोस्ट

ब्लॉगर साथी अजय रोहिला का साथ छूट चुका है। अजय के ब्लॉग चौपाल http://nairaahe.blogspot.com/ पर ये आखिरी पोस्ट है। ये अजय की संवेदनशीलता दर्शाती है। चौपाल पर आकर अजय को श्रद्धांजलि दें।

Monday, February 18, 2008

मौत..... दयालुता के साथ

यह बीबीसी की हैडलाइन स्टोरी है..... अग्रेज वाकई में बड़े नमॆदिल और दयालु प्रवॆति के होते है........अमरीका के कृषि विभाग (यूएसडीए) ने क़रीब साढ़े छह करोड़ किलो गोश्त वापस लौटाने का आदेश दिया है. देश के इतिहास में मांस की वापसी का यह सबसे बड़ा आदेश है. ह्यूमन सोसायटी ऑफ़ अमेरिका के एक वीडियो शॉट के प्रकाश में आने के बाद संयंत्र के कामकाज को रुकवा दिया गया है.

किसी अमेरिकी चैनल पर एक वीडियो में दिखाया गया है कि कैसे बीमार और कमज़ोर पशुओं को संयंत्र के कर्मचारी बाँधते हैं, मारते हैं, विद्युत करंट लगाते हैं और तेज दबाव से उन पर पानी डालते हैं। संयंत्र के दो पूर्व कर्मचारियों पर शुक्रवार को पशुओं के साथ क्रूरता करने का आरोप लगाया गया जिसकी जाँच अभी जारी है

क्रप्या इस लाइन को थोड़ा तसल्ली से पढ़े....कंपनी का कहना है कि वह यह सुनिश्चित करने के लिए अब कार्रवाई कर रही है ताकि सभी कर्मचारी पशुओं के साथ दयालुता के साथ पेश आएं.(पढ़े दयालुता से मारा जाए)साला ...जब किसी को मौत देनी ही है तो इसमें दयालुता दिखाकर कौन सा हथिनी की.....पर भाला मार देगे... उन बेजुबानों को आखिरकार मिलनी तो मौत ही है.... क्या कहते है

Posted by अजय रोहिला at 11:39 AM 4 comments Links to this post

5 comments:

अनूप शुक्ल said...

एक बार फ़िर दुख हो रहा है ऐसे संवेदनशील साथी का असामयिक निधन!

अरुण said...

हमारी तमाम संवेदनाये उनके परिवार के साथ है.

Priyankar said...

विश्वास नहीं हो रहा है . क्या सच में ....

अविनाश वाचस्पति said...

काश यह 1 अप्रैल 2008
का होता कारनामा
हमें फूल बनने में
भी गम न होता.

विनय प्रजापति 'नज़र' said...

aadhunik blogging ne ek heera kho diya hai...

- VINAY PRAJAPATI NAZAR