Sunday, August 12, 2007

सांसद को पकड़वाएं, ढाई हज़ार रुपये पाएं

फूलपुर से समाजवादी पार्टी के सांसद अतीक अहमद अब ईनामी बदमाशों की श्रेणी में आ गए हैं। उत्तर प्रदेस शासन ने उन पर पच्चीस सौ रुपये का ईनाम रखा है। सांसद महोदय पर अपने भाई के साथ मिल कर बीएसपी विधायक राजूपाल की हत्या का आरोप है। फिलहाल फरार चल रहे हैं इसलिए ईनाम रखा गया है। इन पर कई दूसरे आपराधिक मामले भी हैं। राज्य में अब बीएसपी की सरकार है। ऐसे में सिर पर ढाई हज़ार का ईनाम उनके लिए तौहीनी की बात हो सकती है। इनका डीलडौल देखें तो ये वाकई में ज़्यादती लगती है। फिर भी आपको कहीं दिखें तो उत्तर प्रदेश पुलिस को बताने का कष्ट करें। अगर ये छोटे मोटे चोर होते तो शायद ढूंढने में ज़्यादा मेहनत लगता और तब शायद ईनाम की रकम भी बड़ी होती। फिर भी ढाई हज़ार भी कोई छोटी रकम नहीं होती। आप भी ढूंढें मैं भी ढूंढता हूं। देखें किस्मत किसका साथ देती है।

4 comments:

Sanjeet Tripathi said...

भैया इन्हें तो आप और मैं सारी दुनिया में भी नही ढूंढ़ सकते क्योंकि बगल में छोरा शहर में ढिंढोरा!

अरुण said...

भैया क्या दूर से दिखाने पर ही आधे पैसा दे दोगे..मंजूर हो तो मै चलता हू..बाकी पकडना सकडना आप जानो..भगवान आपकी उमर लंबी करे ..उससे हमारा कोई लेना देना नही होगा...:)

अनिल रघुराज said...

अतीक अहमद को तो डूबकर मर जाना चाहिए। इतनी बडी हस्ती और मात्र ढाई हज़ार का ईनाम...

संजय तिवारी said...

इलाहाबाद का नामी गुण्डा अतीक अहमद अब सम्मानित फरार लोकसभा सदस्य है.
डूब मरो ऐ लोकतंत्र.